जीवन को सताना नहीं चाहिए (Do not torture life)

5/5
Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter

माण्डव्य ऋषि तपस्या में लीन थे। उधर से कुछ चोर गुजरे। वे राजकोष लूट कर भागे थे। लूट का धन भी उनके साथ था। राजा के सिपाही उनका पीछा कर रहे थे। चोरों ने लूट का धन ऋषि की कुटिया में छिपा दिया और स्वयं भाग गये। सिपाही जब वहाँ पहुँचे तो चोरों की तलाश में कुटिया के भीतर गये। चोर तो नहीं मिले पर वहाँ रखा धन उन्हें मिल गया। सिपाहियों ने सोचा कि निश्चित ही बाहर जो व्यक्ति बैठा है, वही चोर है। स्वयं को बचाने के लिये साधु का वेष बना, तपस्या का ढोंग कर रहा है। उन्होंने ऋषि को पकड़ लिया और राजा के सामने ले जाकर प्रस्तुत किया। राजा ने भी कोई विचार नहीं किया और न ही पकड़े गये अभियुक्त से कोई प्रश्न किया और सूली पर लटकाने की सजा सुना दी। माण्डव्य ऋषि विचार करने लगे कि ऐसा क्यों हुआ? यह उन्हें किस पाप की सजा मिल रही है? उन्होंने अपने जीवन का अवलोकन किया, कहीं कुछ नहीं मिला। फिर विगत जीवन का अवलोकन किया। देखते- देखते पूरे सौ जन्म देख लिये, पर कहीं उन्हें ऐसा कुछ नहीं दिखाई दिया जिसके परिणाम स्वरूप यह दण्ड सुनाया जाता। अब उन्होंने परमात्मा की शरण ली। आदेश हुआ, ‘ऋषिअपना १०१ वाँ जन्म देखो।’ ऋषि ने देखा ‘‘एक ८- १० वर्ष का बालक है। उसने एक हाथ में एक कीट को पकड़ रखा है। दूसरे हाथ में एक काँटा है। बालक कीट को वह काँटा चुभाता है तो कीट तड़पता है और बालक खुश हो रहा है। कीट को पीड़ा हो रही है और बालक का खेल हो रहा है।’’ ऋषि समझ गये कि उन्हें किस पाप का दण्ड दिया जा रहा है। पर वह तो तपस्वी हैं। क्या उनकी तपस्या भी उनके इस पाप को नष्ट न कर पाई थी? ऋषि विचार ही कर रहे थे कि कुछ लोग जो ऋषि को जानते थे, वे राजा के पास पहुँचे और ऋषि का परिचय देते हुए उनकी निर्दोषता बताई। राजा ने ऋषि से क्षमायाचना करते हुए ऋषि को मुक्त कर दिया। इतनी देर में क्या- क्या घट चुका था। भगवान् का न्याय कितना निष्पक्ष है, कितना सूक्ष्म है। इसे तो ऋषि ही समझ रहे थे। मन ही मन उस कीट से क्षमा याचना करते हुए वे पुनः अपनी तपस्या में लीन हो गये।

English Translation

The Markandya Saiunt beings were absorbed in the penance. There were some thieves from there. They ran away with the treasury. The loot money was with them too. Raja’s soldiers were following him. The thieves hid the loot in the hut’s robe and ran away. When the soldiers reached there, they went inside the cottage looking for thieves. Thieves did not get it but kept the money they got there. The soldiers thought that the person who is sitting outside is definitely the thief. To save themselves, make a traitor of a sadhu, pretending penance. They caught the sage and presented him before the king and presented them. Raja did not even consider any idea and neither did he question the accused arrested and sentenced to hang on the cross. The sage began to think that why did this happen? What sin are they getting this punishment? He observed his life, found nothing. Then he observed the past life. Seeing, seeing the whole hundred births, but somewhere they did not see anything like that which resulted in punishment. Now they seek refuge in God. The order came, ‘See the birth of the sage, 101.’ The sage saw “A child of 8- 10 years old. He has kept a pest in one hand. There is a thorn in the other hand. The insect bites the boy’s insect, then the insect gets agitated and the child is happy. The insect is suffering and the game of the child is happening. “The sage understood that what sin is being punished for them. But he is a friar. Was his penance not able to destroy his sin? The sage was thinking that some people who knew the sage, they reached the king and introduced their sage to their innocence. The king freed the sage while apologizing to the sage. What happened in such a long time? How fair is God’s justice, how precise it is. It was understood only by the sage. While pleading with the pest of his mind, he again got absorbed in his penance.

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter

More Stories

The Well Dispute

The Well Dispute is one of the famous Akbar Birbal Stories for children. The Story goes like this :’Once there was a complaint at King Akbar’s court.

There were two neighbors who ‘. Read More Akbar Birbal Stories

Read More »

The Hunting Prayers

The Hunting Prayers is one of the famous Funny Stories for children. The Story goes like this :’One day, a priest while passing through a forest, saw a lion coming towards him.’. Read More Funny Stories

Read More »

लोमरी और बगुला (Fox and heron)

लोमरी और बगुला (Fox and heron) की कहानी लोकप्रिय कहानी है जो बच्चों को बहुत पसंद आती है. बच्चों को सुनाए हिंदी कहानियां Todpoles हिंदी स्टोरी कलेक्शन से.

Read More »

कीमती उपहार (Precious gifts)

कीमती उपहार (Precious gifts) की कहानी लोकप्रिय कहानी है जो बच्चों को बहुत पसंद आती है. बच्चों को सुनाए हिंदी कहानियां Todpoles हिंदी स्टोरी कलेक्शन से.

Read More »

Keeping The Doctor Away

Keeping The Doctor Away is one of the famous Funny Stories for children. The Story goes like this :’Once there were two sisters named Annie and Jenny. One day they were cycling. Su’. Read More Funny Stories

Read More »

कोयल (Nightingale)

कोयल (Nightingale) की कहानी लोकप्रिय कहानी है जो बच्चों को बहुत पसंद आती है. बच्चों को सुनाए हिंदी कहानियां Todpoles हिंदी स्टोरी कलेक्शन से.

Read More »

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Download Todpoles App to
Start your Kids Fun Learning Journey